Saturday, 22 December, 2012

Thursday, 22 March, 2012

मधुमास के आते ही ....


मधुमास के आते ही प्रकृति के स्वर्ग कही जाने वाली सरोवरनगरी में मधु के प्रेमी भंवरों की मानो पौ-बारह है। इन दिनों वे एक-एक कली पर जाकर मंडराते हैं, सबका स्वाद लेते हैं। स्वाद भाया तभी वहां कुछ देर ठहरते हैं, अन्यथा किसी दूसरे फूल की ओर जा उड़ते हैं। नगर कोतवाली के पास खिले इस पुलम के इस पेड़ पर मंडरा रहे इस नटखट भंवरे के इरादे भी कुछ ऐसे ही लगते हैं।

Thursday, 9 February, 2012

कभी हम भी गुलजार थे.... (Sometimes we were buzzing ....)

पहाड़ में इस तरह बंजर हो रहे हैं घर....

Sunday, 5 February, 2012

Nature from Eco-Tourism Destination-Maheshkhan (Nainital)

Natures Untouched beauty at Maheshkhan
Rain drops on a Pine tree

Bamboo Huts at Maheshkhan

Interior of Bamboo Huts at Maheshkhan

Interior of Bamboo Huts at Maheshkhan


On the way to Maheshkhan

Natures Untouched beauty at Maheshkhan
Maheshkhan : Nature's Untouched beauty